fbpx
Home अध्यात्म हस्तरेखा शास्त्र: हथेली पर क्रॉस का निशान क्या कहता है, जानिये शुभ...

हस्तरेखा शास्त्र: हथेली पर क्रॉस का निशान क्या कहता है, जानिये शुभ और अशुभ संकेत

0
3907
Cross On Palmistry

हिन्दू धर्म शास्त्रों में कई ऐसे ग्रंथ मौजूद है जो व्यक्ति के भविष्य को लेकर घोसणाए करते है। इन्ही में से एक है, हस्तरेखा विज्ञानं (Palmistry) ग्रंथ। इसके माध्यम से हथेली पर बनी रेखाओं को पढ़कर भविष्य के संकेत जाना जा सकता है। हथेली पर कई तरह की रेखाओं के अलावा शुभ-अशुभ चिन्ह भी होते हैं। हथेली पर ऐसे कई निशान होते हैं जो छोटी-छोटी रेखाओं के मिलने से बनते हैं। इन सभी रेखाओ के बीच एक क्रॉस का निशान भी मौजूद होता है। जिसके ज्योतिष शास्त्र में कई मायने होते है। कई रेखाओ से मिलकर बना क्रॉस निशान किस व्यक्ति के लिए कैसा फलदायी होगा, यही चीज आज हम अपनी पोस्ट में बताने जा रहे है। तो आइये जानते है थोड़ा विस्तार से।

शनि पर्वत पर क्रॉस का निशान

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, शनि पर्वत पर क्रॉस का निशान अशुभ माना जाता है। यहां पर क्रॉस का निशान होने पर दुर्घटना का संकेत देता है। अकाल मृत्यु या फिर किसी बड़ी दुर्घटना का संकेत देता है यह क्रॉस का निशान। जिस जातक की हथेली पर ये निशान मौजूद होता है। उसे बेहद सावधानी रखनी होती है, खासकर बाहन प्रयोग के समय। इस जातक को जितना हो सके बाहन से दुरी ही बना कर चलना चाहिए।

सूर्य पर्वत पर क्रॉस

हस्तरेखा शास्त्र के मुताबिक सूर्य पर्वत पर क्रॉस का निशान भी अशुभ होता है। सूर्य के अच्छा होने का मतलब समाज में यश, सम्मान और प्रतिष्ठा दिलाता है। ऐसे में इस जगह पर क्रॉस का निशान व्यक्ति के मान-सम्मान में गिरावट को दर्शाता है। ऐसे ब्यक्ति को दुश्मनो खासकर अपने करीबी दुश्मनो से सावधान रहने की अधिक आवश्यकता होती है। जितना हो सके अपने राज को अपने पास तक ही राज रहने दे।

बुध पर्वत पर क्रॉस का निशान

हस्तरेखा शास्त्र के मुताबिक हथेली पर बुध पर्वत व्यक्ति के बुद्धि और कौशल को बताता है। ऐसे में अगर किसी की हथेली पर बुध पर्वत के ऊपर क्रॉस का निशान बना होता है तो उसकी बुद्धि और विवेक नष्ट हो जाती है। ऐसे ब्यक्ति को थोड़ा विवेक और धैर्य से कार्य करना चाहिए। जितना हो सके दुसरो की बुराई करने बचना चाहिए, इससे शत्रुता बढ़ती है।

मंगल पर्वत पर क्रॉस का चिन्ह

मंगल पर्वत पर क्रॉस का निशान अशुभ संकेत है। इस जगह पर क्रॉस का निशान बना होने पर व्यक्ति संघर्ष और झगड़े में लिप्त रहता है। ऐसे ब्यक्ति को समय रहते अपने क्रोध पर काबू पाने का प्रयास करना चाहिए। बरना अति दुश्मनी भारी पड़ती है। जातक को चाहिए कि बह बाद विवाद के लफड़ो से दूर ही रहे।

शुक्र पर्वत पर क्रॉस का निशान

शुक्र प्रेम और विलासिता का कारक माना गया है। ऐसे में इस जगह पर क्रॉस का निशान बनने पर सुख और विलासिता चीजों पर पड़ता है। शुक्र गृह का कमजोर होना मतलब वैवाहिक और सामाजिक जीवन दोनों में गिरावट होना होता है। ऐसे में जातक को प्यार और शादी दोनों में संवंध (प्यार का इजहार) स्थापित करते बक्त सावधानी रखनी चाहिए। जितना हो सके लड़कियों के मामले से दूर ही रहे, बरना लेने के देने पड़ सकते है।

जीवन रेखा पर क्रॉस का निशान

जीवन रेखा पर क्रॉस का निशान बनने पर व्यक्ति को संकट और मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। जीवन रेखा का मतलब ही मनुष्य के जीवन से होता है। मनुष्य का जीवन कैसा और कितना सफल होगा ये जीवन रेखा बताती है। ऐसे में इस रेखा पर क्रॉस का निशान अत्यंत अशुभ माना जाता है। ऐसे जातको को अपने हर कदम को फूंक फूंक कर चलना चाहिए। यानि की सावधानी और न्याय पूर्ण जीवन की तरफ अग्रसर होना चाहिए।

गुरु पर्वत पर क्रॉस का निशान

वैसे तो हथेली पर क्रॉस का निशान ज्यादातर अशुभ माना जाता है लेकिन अगर क्रॉस का निशान गुरु पर्वत पर बने तो यह शुभ फल प्रदान करता है। जिस किसी के गुरु पर्वत पर क्रॉस का निशान बना होता है वह बहुत ही भाग्यशाली और किस्मत का धनी होता है। ऐसे लोग शिक्षा के क्षेत्र में भी अव्वल होते हैं।

नोट- ये सभी क्रॉस निशान की गणना ज्योतिष के द्वारा हस्तरेखा विज्ञानं के अंतर्गत की गई है। ऐसे में अगर किसी ब्यक्ति को इस गणना से कोई आपत्ति है, तो बह अपने विचारो को कमेंट बॉक्स में रख सकता है। आपके विचार हमारे लिए बहुमूल्य होंगे। धन्यवाद।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here