किसी भारतीय को नसीब नहीं हुआ ये विदेशी स्कूल, रिक्शा चालक के बेटे को मिला यहां दाखिला

0
147
social media
social media

कहते हैं मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती। ऐसा ही कुछ एक शख्स कमल के साथ हुआ। देश में स्कूल में दाखिला लेने के लिए कई जगहों पर धक्कें खाने पड़ते हैं। लेकिन आज से चार साल पहले कमल को इस बात की उम्मीद नहीं थी कि उसकी दाखिला एक ऐसे स्कूल में होगा जहां अभी तक कोई भारतीय नहीं पहुंचा है। बता दें कि सौभाग्य से कमल को लंदन के इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल में दाखिला मिला है।

image source- social media

बता दें कि यहां पर उनकी एक साल की ट्रेनिंग है। इसके बाद वह दुनियाभर में प्रोफेशनल बैले डांसर कहलाएंगे। गौरतलब है कि कमल से पहले अभी तक किसी भारतीय को यहां पहुंचने का मौका नहीं मिल पाया है। चौंकाने वाली बात यह है कि कमल के पिता रिक्शा चलाते हैं। वहीं, कमल ने कीटो डॉट ओआरजी के जरिए फंड जुटाया है। इसमें उन्होंने अभी तक 16 लाख रुपये का फंड जुटाया है।

image source- social media

कमल ने बताया कि उन्होंने चार साल पहले एक बॉलीवुड फिल्म एनीबडी केन डांस देखी थी। फिल्म में उन्होंने फर्नोंडो गुलेरियो देखा जो कि एक मशहूर कोरियग्राफर हैं। कमल को फिल्म में उनका काम पसंद आया। साथ ही उन्हें भांगड़ा और हिपहॉप भी अच्छा लगा, लेकिन सबसे ज्यादा उन्हें बैले डांस ने प्रभावित किया।

कमल ने आगे बताया कि उन्होंने फर्नांडो गुलेरिया को गूगल पर सर्च कर उनके बारे में जानकारी ली। यहीं से कमल को फ्री ट्रायल क्लास के बारे में पता चला। वहीं, क्लास खत्म होने के बाद गुलेरिया, कमल के डांस से प्रभावित हुए। गुलेरिया ने बताया कि वह पहले दिन ही समझ गए थे कि कमल में कुछ स्पेशल मूव्स हैं। गुलेरिया कमल की डांस स्किल से खूब खुश हुए।

स्कॉलरशिप से की कमल ने पढ़ाई

कमल ने बताया ‘ मेरे पिता एक ई-रिक्शा चलाते हैं, इसलिए मैंने गुलेरिया को बताया कि उनके पास आगे देने के लिए फीस के पैसे नहीं है, उन्होंने मेरे स्कॉलरशिप की बात की, उन्होंने मुझे इंटरनेशनल डांसर बनने को कहा, वह मेरे पिता से मिलने चाहते थे, उन्होंने पिता को सारी बात बताई, पिताजी ने कहा मैं पहले 12वीं पास कर लूं फिर वो इसमें मेरा साथ देंगे।’

image source- social media

रूस और लंदन से भी मिली स्कॉलरशिप

बता दें कि कमल ने रूस के वागानोवा बैले एकेडमी में साल 2019 में बैले डांस की एक वीडियो भेजी। कमल यहां दाखिला लेने के लिए तैयारी कर रहे थे। कमल की वीडियो के आधार पर उनका चयन हो गया। उन्होंने वहां ट्रेनिंग भी ली। कमल वहां समर स्कॉलरशिप पाने में कामयाब हुए लेकिन कोरोना की वजह से जा नहीं पाए।

इंग्लिश बैले स्कूल में चयन

कमल यहीं नहीं रुके और उन्होंने कई जगहों पर अपने डांस की वीडियों भेजना शुरू कर दिया। उनकी डांस वीडियो के आधार पर लंदन के इंग्लिश नेशनल बैले स्कूल बुलाया गया। कमल को बताया गया कि स्कूल के निदेशक विवियाने दुरांते ने उनकी वीडियो देखी जिसके आधार पर उन्हें दुनिया के टॉप टेन बैले डांसर में चुना गया है। अब कमल 19 सितंबर को लंदन के लिए रवाना होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here