सदी के सबसे बड़े दानवीर TATA: बिल गेट्स, वॉरेन बफे से भी ज्यादा दान…बने दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी

0
1623

भारत के दिग्गज उद्योगपति (Industrial) और टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) देश ही नहीं, बल्कि दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी हैं। वारन बफे, जोफ बेजोस या बिल गेट्स बेशक दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार हैं, लेकिन ये लोग भारतीय उद्योग जगत के पितामह और टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा से बड़े दानवीर नहीं हैं।

इस मामले में वह बिल एवं मेलिंडा गेट्स से भी आगे हैं। 100 साल में दान करने के मामले में उनके जैसा कोई परोपकारी दुनिया में नहीं हुआ है। उनके द्वारा स्थापित टाटा समूह ने सबसे ज्यादा 102 अरब डॉलर (करीब 75 खरब 70 अरब 53 करोड़ 18 लाख रुपये) का दान दिया है।

सबसे बड़े दानवीर जमशेदजी टाटा

हुरुन रिपोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन द्वारा तैयार विश्व के 50 दानवीरों की सूची में जमशेदजी को पिछले 100 सालों में दुनिया का सबसे बड़ा दानवीर चुना गया है। दुनिया के सौ सालों के सबसे उदार दानवीरों की सूची बुधवार को जारी की गई।

Image Source: TATA Group

इसमें नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाने वाले टाटा समूह के जमशेदजी दान देने में दुनिया के अन्य उद्योगपतियों से काफी आगे हैं। दुनिया के सबसे अमीरों की लिस्ट में भारत भले ही 11वें नंबर पर है, लेकिन दुनिया में सबसे ज्यादा दान देने वालों की लिस्ट में टॉप पर है।

पिछले 100 सालों में दुनिया भर के सबसे बड़े दानदाताओं की लिस्ट में टाटा ग्रुप के फाउंडर जमशेदजी टाटा का नाम पहले नंबर पर है। सूची में दूसरे नंबर पर बिल गेट्स और उनकी तलाकशुदा पत्नी मिलिंडा गेट्स हैं, जिन्होंने 74.6 अरब डॉलर का दान दिया है।

Image Source: Tata Group

वहीं वारेन बफे 37.4 अरब डॉलर के साथ तीसरे, जॉर्ज सॉरस 34.6 अरब डॉलर के साथ चौथे और जॉन डी रॉकफेलर 26.8 अरब डॉलर के साथ सूची में पांचवें नंबर पर हैं।

दुनिया के सबसे बड़े दानवीर में दो भारतीय

आपको बता दे, जमशेदजी ने अपनी दो तिहाई संपत्ति ट्रस्ट को दे दी थी, जो शिक्षा, स्वास्थ्य सहित अन्य क्षेत्रों में आज भी काम कर रहा है। उन्होंने 1892 से ही दान देना शुरू कर दिया था।

Image Source: Tata Group & The Federal

इस सूची में एकमात्र अन्य भारतीय विप्रो के अजीम प्रेमजी हैं, जिन्होंने परोपकारी कार्यों के लिए लगभग 22 अरब अमेरिकी डॉलर दिए हैं।

सूची में 38 लोग अमेरिका से हैं और उसके बाद ब्रिटेन (5) और चीन (3) का स्थान है। कुल 37 शीर्ष दानदाताओं की मृत्यु हो चुकी है, जबकि उनमें से 13 जीवित हैं।

Image Source: Times Now

फाउंडेशन की ओर से कहा गया है कि 50 लोगों की सूची में अल्फ्रेड नोबेल का नाम नहीं है। हालांकि कुछ ऐसे लोगों के नाम हैं, जो आश्चर्यजनक नहीं हैं।

रतन टाटा ने उनकी विरासत को आगे बढ़ाया

गौरतलब है कि जमशेदजी टाटा नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाने वाले कारोबारी समूह टाटा के संस्थापक थे। उनका जन्म 1839 में गुजरात के नवसारी में हुआ था। साल 1904 में ही उनका निधन हो गया था। उन्हें भारतीय उद्योग का जनक कहते हैं।

Image Source: The Print

आगे चलकर रतन टाटा ने उनकी विरासत को आगे बढ़ाया, रतन टाटा भी दान के मामले में पीछे नहीं हैं। पिछले साल मार्च में टाटा समूह ने कोरोना से लड़ने के लिए 1500 करोड़ रुपए का दान किया था, जो भारतीय बिजनेस घरानों द्वारा किया गया सबसे बड़ा दान था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here