ये हैं कटहल से बना शाकाहारी मीट, इसे न फ्रीज में रखना होगा न होगी वायरस की चिंता, स्वाद भी लाजवाब!

0
382

कटहल की सब्जी को कई लोग वेजिटेरियन नॉनवेज के नाम से भी बुलाते है। कई लोग मजाक-मजाक में कई बार यह कहते हैं कि यह वेजिटेरियन लोगों के लिए नॉनवेज का काम करता है। हाल ही में कोरोना महामारी के दौरान जारी लॉकडाउन में पेशे से एक वकील साईंराज ने भी अपनी इसी सोच को सत्यता में तब्दील किया। उन्होंने एक ऐसे बिजनेस की शुरुआत की जो शाकाहारी होते हुए भी लोगों के लिए मांसाहारी खाने का काम करें।

Social Media

उनकी इस शुरुआत ने लोगों के बीच काफी लोकप्रियता भी बटोरी। मात्र 4 महीने में उनका यह बिजनेस दुनिया भर में प्रसिद्धि हासिल कर चुका है। साईंराज ने अपनी शुरुआत का श्रेय अपनी दादी के खाने को दिया है। उनका कहना है कि उनकी दादी बेहद स्वादिष्ट कटहल बनाती थी।

Image Credit- The Better India

साईराज का कहना है कि बचपन में वह हमेशा कटहल को नॉनवेज समझकर बड़े स्वाद से खा लिया करते थे। ऐसे में लॉकडाउन के दौरान उनके मन में कटहल की इम्यूनिटी बूस्टर छवि को देखते हुए विचार हुआ कि क्यों ना कटहल के मीट की शुरुआत की जाए और उन्होंने ‘वकाओ फूड्स’ के नाम से साल 2020 नवंबर में इसकी शुरुआत की।

Social Media

4 महीने में इसने इतनी लोकप्रियता बटोरी, जिसका उन्हें अंदाजा भी नहीं था। ‘वकाओ फूड्स’ के प्रोडक्ट गोवा में करीब 30 से ज्यादा वीगन दुकानों में मिलने लगे हैं।इसके अलावा ग्रैंड हयात और जेडब्ल्यू मैरियट जैसे बड़े होटलों में भी ‘वकाओ फूड्स’ के प्रोडक्ट काफी तारीफें बटोर रहे है।

Social Media

साईं राज का कहना है कि एक अनजाने क्षेत्र में एक अनोखे तरीके से शुरू किया गया बिजनेस उन्हें नहीं लगा था कि इतना कामयाब होगा। उनका कहना है कि लॉकडाउन में बिगड़ती अर्थव्यवस्था ने शुरूआत में उन्हे काफी परेशान किया था। हालांकि बीतते वक्त के साथ अब वह अपने काम से काफी खुश हैं।

वे कहते हैं कि कटहल के विभिन्न उत्पादों के जरिए हम ग्लूटेन फ्री खाद्य पदार्थों को देखने के तरीके में क्रांति भी ला सकते हैं। साईं राज के जुनून ने उनके इस सफर को कठिनाइयों के बावजूद भी इसे आसान बनाया।

Image Credit- The Better India

साईराज का कहना है कि उन्होंने अपने काम की शुरुआत अपना वकालत का पेशा छोड़कर की। उनका मानना है कि अगर आपको आपके काम से खुशी नहीं मिल रही, तो उसे छोड़कर कुछ ऐसा करना चाहिए जिससे आपको खुशी मिले। वकालत का पेशा छोड़ कटहल के मीट के बिजनेस में की गई शुरुआत से उन्हें सुकून मिलता है।

साईं राज ने बताया कि कटहल की गुणवत्ता और उसके कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ उच्च मात्रा में पोटेशियम और फाइबर जो ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है…इसके साथ-साथ कटहल के एंटीऑक्सीडेंट गुण उन्हें इस बात के लिए प्रेरित किया कि वह कटहल का कुछ ऐसा प्रोडक्ट तैयार करें, जिससे हर किसी को खाने में मजा आए।

Image Credit- The Better India

कटहल को मीट बनाने के लिए उन्होंने कई तरह के शैफ और कटहल के विशेषज्ञों से संपर्क किया। इस दौरान उन्होंने समझा कि कटहल और चिकन बनाने का तरीका करीब-करीब एक जैसा ही होता है। दोनों की ग्रेवी का स्वाद भी लगभग एक जैसा ही होता है। ऐसे में यह काम उनके लिए थोड़ा चुनौतीपूर्ण जरूर था, लेकिन कटहल की प्रोसेसिंग टेक्निक के बारे में जब उन्होंने बारीकी से सारी जानकारी इकट्ठी की तो उन्हें इसमें कामयाबी मिली।

Social Media

साईंराज का कहना है कि यह बात सभी जानते हैं कि कटहल हर संस्कृति और धर्म के लोग खाते हैं। कटहल में कई पौष्टिक गुण भी होते हैं। यह एक प्रमुख बीवीगनगन या शाकाहारी आइटम है। इसकी खासियत यह है कि यह उत्पाद पशु क्रूरता से मुक्त है। इसके बावजूद यह पौष्टिकता और स्वादिष्ट गुणों से भरपूर है। ऐसे में जब नॉनवेजिटेरियन लोगों को भी इसका स्वाद अच्छा लगेगा तो वह इसे जरूर अपनाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here