जानिये किसी औरत के बड़े तो किसी के छोटे स्तन की वजह?

0
589

अक्सर फिल्मों में यह बात दोहराई जाती है कि एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं होते, हालांकि यह बात एक हद तक सही भी साबित होती है। जब एक मेल और फीमेल के डिस्कशन के बीच शारीरिक मुद्दों को लेकर उठने वाले उनके सवालों का जवाब वह आपस में बात करके तलाशने लगते हैं। इस दौरान अक्सर वह एक दूसरे की ओर आकर्षित भी हो जाते हैं। दोनों के बीच बातचीत में एक मोड़ पर महिला स्तन का सवाल जरूर आता है, जो पुरूष के उत्तेजित होने की वजह का सबसे अहम कारण भी माना जाता है।

सांकेतिक तस्वीर

हर लड़का-पुरुष यह बात जरूर जानना चाहता है कि आखिर उसकी महिला मित्र की ब्रा का साइज क्या है। बातों ही बातों में अक्सर वह पूछ भी लेता है। ऐसे में यह कई बार होता है कि महिलाएं इस तरह के सवालों को सुनने के बाद थोड़ा असहज महसूस करती है। वही कई बार लोग इसके बड़ा और छोटा होने के सवालों को लेकर भी अटक जाते हैं। ऐसे में आइए आज हम आपको इसके पीछे के कारणों के बारे में बताते हैं। साथ ही इसके बढ़ते और घटते साइज के पीछे छिपे साइंटिफिक कारणों को भी समझते हैं।

यह बेहद आम बात है कि जब एक लड़का लड़की से बात करता है तो बातों ही बातों में उसकी नजर कई बार उसके सीने पर अटक जाती है। ऐसे में कुछ महिलाएं इसे बेहद आम बात समझ कर इग्नोर कर देती हैं, तो कुछ महिलाएं इस बात को नोटिस करने के बाद काफी असहज महसूस करती है। कुछ महिलाओं में इन मामलों को लेकर कॉन्फिडेंस होता है तो कुछ इंप्लांट्स करवाती है।

प्यूबर्टी के दौरान आता है बदलाव

डॉक्टर के मुताबिक महिला स्तन का बढ़ना प्यूबर्टी के दौरान शुरू होता है। प्यूबर्टी में लड़कियों के शरीर में हार्मोन में तेजी से बदलाव आते हैं। इस दौरान शरीर पर बालों की ग्रोथ होने के साथ ही ब्रेस्ट का बढ़ना भी शुरू होता है। साथ ही इसी दौरान पीरियड्स की शुरुआत भी होते है। प्यूबर्टी से शुरू होकर ब्रेस्ट मेनोपॉज़ की उम्र तक लगातार आकार बदलते हैं।

सांकेतिक तस्वीर

औरतों के शरीर में होते हैं दो तरह के हारमोंस

डॉक्टर के मुताबिक औरतों के शरीर में दो तरह के हारमोंस होते हैं। एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन.. प्यूबर्टी में इन दोनों ही हार्मोन में बदलाव होता है। यह दोनों हार्मोन शरीर में इस दौरान एक्टिव होते हैं, इस वजह से ब्रेस्ट का साइज बढ़ने लगता है। प्यूबर्टी के बाद किसी औरत के हेल्दी रहने के लिए यह बेहद जरूरी होती है कि उसके शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का बैलेंस बना रहे। इसके अलावा कुछ दवाइयों की वजह से भी ब्रेस्ट का साइज बढ़ता है।

सांकेतिक तस्वीर

इस दौरान बढ़ता है साइज

वहीं डॉक्टरों का कहना है कि प्रेगनेंसी के दौरान भी महिला के हार्मोंस में तेजी से बदलाव आता है। इन हार्मोनल बदलाव के चलते ही बच्चा पैदा होने के बाद ब्रेस्ट में दूध बनने लगता है, जिसकी वजह से ब्रेस्ट का आकार बढ़ता है। इस दौरान अनहेल्थी लाइफस्टाइल के चलते पूरे शरीर पर फैट की मात्रा भी बढ़ जाती है, तब ब्रेस्ट पर भी फैट बढ़ता है, जिसके चलते ब्रेस्ट का साइज बढ़ जाता है।

सांकेतिक तस्वीर

ब्रेस्ट के बदलते आकार को लेकर डॉक्टरों का कहना है कि एक ब्रेस्ट में 15 से 20 सेक्शन होते हैं। इन्हें लोब्स कहा जाता है। इनमें बहुत सारे छोटे-छोटे लोब्यूल्स होते हैं जिनका आकार बल्ब की तरह होता है। इनमें दूध बनता है। यह बल्ब ब्रेस्ट में मौजूद बहुत सारे मिल्क डक्ट्स से जुड़े होते हैं। बकौल डॉक्टर औरत के ब्रेस्ट में एक भी मसल नहीं होते और लगभग हर औरत के ब्रेस्ट में बल्ब और डक्ट्स की संख्या बराबर ही होती है।

सांकेतिक तस्वीर

फैट पर भी निर्भर करता है ब्रेस्ट का आकार

ब्रेस्ट के आकार को लेकर डॉक्टरों का कहना है कि जिन औरतों के ब्रेस्ट में फैट ज्यादा होता है उनका ब्रेस्ट भी ज्यादा बड़ा होता है। फैट नहीं या कम होने पर ब्रेस्ट का साइज भी छोटा हो जाता है। डॉक्टर का यह भी कहना है कि एक औरत के दोनों ब्रेस्ट का साइज अलग अलग होता है। दोनों ब्रेस्ट के आकार में पूरे एक कप साइज का अंतर भी हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here