जीजा-साली मंगेतर गैंग पर खुलासा, अब तक लगा चुके हैं 10 करोंड़ का चुना, ऐसे बनाते थे लोगों को शिकार

0
266

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बीते दिनों साइबर क्राइम के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे थे। एक हफ्ते में पुलिस को कई केस मिले ऐसे में पुलिस ने सोमवार को एक ऐसे गैंग का खुलासा किया, जो अब तक 10 करोड रुपए की ठगी कर चुका था। अब तक ये लोग 10 हजार लोगों को अपना शिकार बना चुके थे। सस्ते लोन देने का झांसा देकर इन आरोपियों ने इस पूरे फर्जीवाड़े की कहानी रची थी।

mp-crime-news-cyber-crime-police-arrested-thug-gang-of-jija-sali-and-mangetar4
social media

पुलिस ने किया जीजा-साली और मंगेतर गैंग का खुलासा

साइबर सेल की टीम ने इस मामले को सीरियस लेते हुए इसकी जांच पड़ताल शुरू की। जांच के दौरान सामने आया कि यह मामला एक कॉल सेंटर से जुड़ा है, जिसके तार नोएडा से भोपाल आए है।

इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है, जिसके तहत डेविड कुमार जाटव, मंगेतर मनीषा भट्ट और बहन नेहा भट्ट को गिरफ्तार किया गया है। वही फिलहाल इस गिरोह का चौथा मेंबर फरार बताया जा रहा है जिसकी जांच पड़ताल में पुलिस जुटी हुई है।

mp-crime-news-cyber-crime-police-arrested-thug-gang-of-jija-sali-and-mangetar4
social media

लोन के नाम पर करते थे लुट

यह सभी आरोपी लोगों को लोन देने के नाम पर झांसा दिया करते थे। यह लोगों को लगातार कॉल कर करके उन्हें सस्ता लोन देने का भरोसा दिलाते थे। वहीं पुलिस ने अपनी जांच पड़ताल के बाद खुलासा किया कि इस पूरे मामले का मास्टर माइंड डेबिट कुमार जाटव है, तो वही उसके इस काम में उसकी प्रबंधक मनीषा भट्ट और नेहा भट्ट उसके साथ होती थी।

mp-crime-news-cyber-crime-police-arrested-thug-gang-of-jija-sali-and-mangetar4
social media

डेविड है पूरे मामले का मास्टर माइंड खिलाड़ी

इस मामले का मुख्य आरोपी डेविड कुमार जाटव स्विफ्ट फाइनेंस के नाम पर एक आईटी कंपनी चलाता है। साथ ही उसने ऑनलाइन वेब डिजाइनिंग का कोर्स किया है। यह फर्जी वेबसाइट ग्राहकों को लोन देने के लिए बनाकर अपने फर्जीवाड़े की पूरी साजिश रचता है।

इसके साथ ही यह इसके ऑनलाइन विज्ञापन गूगल ऐड पर भी देता है। इस काम के लिए इसने यूपी के नोएडा में दो कॉल सेंटर खोल रखे हैं। यहां पर कुल 25 से 30 लोग काम करते हैं, जो कि लोगों को कॉल करके अपना शिकार बनाते हैं।

mp-crime-news-cyber-crime-police-arrested-thug-gang-of-jija-sali-and-mangetar4
social media

जीजा-साली, मंगेतर गैंग का काम

डेविड जाटव की मंगेतर नेहा भट्ट भी इस फर्जीवाड़े में शामिल है। कंपनियों को फंसाने और उनके ऑपरेशन का काम करती है। वहीं इस मामले में शामिल नेहा भट्ट की बहन मनीषा भट्ट इस फर्जीवाड़े के सबसे अहम रोल निभाने वाले कॉल सेंटर की प्रबंधक है।

मामले में शामिल चौथा आरोपी कमल कश्यप लोगों के फर्जी अकाउंट खोलने और उन्हें सिम देने का काम करता है। डेविड कमल कश्यप को हर एक फर्जी अकाउंट के 50 हजार रूपये दिया करता है।

mp-crime-news-cyber-crime-police-arrested-thug-gang-of-jija-sali-and-mangetar4
social media

एडीजी उपेंद्र जैन ने किया खुलासा

इस मामले का खुलासा करते हुए एडीजी उपेंद्र जैन ने बताया कि यह लोग पहले एक फर्जी वेबसाइट डेवलप्ड कर गूगल ऐड पर इसके विज्ञापन देते हैं। जब ग्राहक लोन के लिए पर्सनल जानकारी डालते हैं तब इस कंपनी की कॉल सेंटर से ग्राहकों को कॉल किया जाता है।

इस दौरान वह लोग ग्राहक को प्रोसेसिंग फीस सिक्योरिटी डिपॉजिट, जीएसटी और वन टाइम ट्रांजैक्शन के नाम पर अलग-अलग चार्जेस के बारे में बताते हैं। यह लोग चार्जेस के नाम पर ग्राहकों से 30 से 40 हजार की ठगी करते हैं। यह लोग एक फर्जी वेबसाइट को 2 से 3 माह तक उपयोग करते हैं और फिर बंद कर देते हैं।

एडीजी ने बताया कि अब तक यह लोग 1000 लोगों को अपनी ठगी का शिकार बना चुके हैं। ऐसे में इन 1000 लोगों से इन लोगों ने अब तक 10 करोड़ रूपये की वसूली की है। वही मौके से पुलिस ने इनके पास से छह लैपटॉप, 25 मोबाइल, 21 पेनड्राइव, 8 सिम कार्ड और डेबिट कार्ड सहित कई फर्जी दस्तावेज भी बरामद किए हैं। फिलहाल मामले पर जांच पड़ताल जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here