रीढ़ की हड्डी में असहनीय दर्द के ये हैं 5 मुख्य कारण, जानें इसके बारे में

0
1692
Peeth Dard

मौजूदा भागमभाग वाली जिंदगी में पता नहीं कब शरीर के किसी भाग का दर्द हमारी दिनचर्या का हिस्सा बन जाता है, इसका हमें पता भी नहीं चलता। सुबह उठकर ऑफिस और दिनभर बैठकर काम करना और फिर घर आकर भी पार्ट टाइम काम करना बहुत घातक होता जा रहा है। इससे ना सिर्फ व्यक्ति बीमार हो रहा है बल्कि ना उसे चैन मिल रहा है और मैंटली भी ऐसे लोग परेशान रह रहे हैं। सुबह उठने के बाद अक्सर कंधे और शरीर में अकड़न और कमर के निचले हिस्से में तेज दर्द का अनुभव होता है। इस दर्द को हम लंबे समय तक नजरअंदाज करते रहते हैं और फिर अचानक यह हमें रोज परेशान करने लगता है।

पीठ का दर्द जो पीछे गले से लेकर कमर की हड्डी तक होता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि रीढ़ की हड्डी में असहनीय दर्द के पीछे होता है ये 5 कारण, इसे आपको जरूर जानना चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार कमर और पीठ में होने वाले दर्द का कारण एक नहीं है। कई बार ठंड, सर्दी-जुकाम के बाद भी ऐसा हो सकता है। कई मामलों में लोग इस दर्द की अनदेखी करते हैं इस कारण ये और भी बढ़ता है। पीठ और कमर दर्द का एक बड़ा कारण रीढ़ की हड्डी कमजोर होने से होता है। हमारी कई दैनिक आदतें होती हैं जो रीढ़ की हड्डी को कमजोर बनाने का काम करती है। अगर आप इन दैनिक आदतों से अवगत होते हैं तो आप इन दर्दों से बच सकते हैं।

इस तरह होती है पीठ दर्द की शुरुआत

उम्र बढ़ने के कारण डिस्क में पानी कम होता जाता है इस कारण कमर और पीठ का लचीलापन खत्म हो जाता है। ऐसी स्थिति में डिस्क की नसों पर दबाव पड़ना शुरू हो जाता है। इससे पैरों में दर्द, अकड़न की समस्या शुरू होती है। वहीं कमर और पीठ के दर्द का मुख्य कारण ह​ड्डी में होने वाला संक्रमण है। इसके अलावा डिस्क में भी बैक्टीरियल इंफेक्शन होने पर दर्द होता है। रीढ़ की हड्डी का ट्यूमर भी दर्द का कारण बनता है। इसलिए इलाज से पहले दर्द के कारण का पता लगाया जाना जरूरी है।

पीठ दर्द से बचने के तरीके

  • उठने, बैठने व सोने की मुद्रा को ठीक करें। कुर्सी पर बैठते समय मेज की ऊंचाई का ध्यान रखें। गलत मुद्रा में बैठने से पीठ की मांसपेशियों में लचक आ जाती है।
  • दर्द नहीं भी है तो भी नियमित रूप से 20 से 30 मिनट तेज गति से चलें। रस्सी कूदना, सीढ़ियां चढ़ना-उतरना, स्विमिंग व साइक्लिंग को व्यायाम में शामिल करें।
  • गर्दन को सहारा देने के लिए बोन कॉलर पहनते हैं, बिना परामर्श इसे एक हफ्ते से अधिक न पहनें। यह दर्द कम करने का तरीका है, उपचार नहीं।
  • लेट कर टीवी ना देखें। लंबे समय तक गाड़ी न चलाएं। भारी सामान को ढंग से उठाएं। अपने घुटने मोड़ें और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। वजन को शरीर के दोनों भागों में बराबर रखें।

रीढ़ की हड्डी में असहनीय दर्द के पीछे होता है ये 5 कारण

ज्यादा देर तक बैठना

लंबे समय तक एक जगह बैठने वालों के शरीर में ज्यादा दबाव पड़ता है और इसलिए अगर आप लंबे समय तक एक ही जगह रहते हैं तो आपकी गर्दन या कमर अकड़ जाती है। घंटों बैठने से आपकी रीढ़ की हड्डी पर जोर पड़ सकता है।

हील्स पहनने के कारण

अगर आपको हील्स पहनने की आदत है तो आपकी रीढ़ की हड्डी बहुत दर्द कर सकती है। हाई-हील सैंडल पहनने से आपके पैरों की मांसपेशियां दबती हैं और इससे पीठ पर असर पड़ता है। ध्यान रहे कि आपकी सैंडल हल्की होनी चाहिए।

ज्यादा धूम्रपान करना

सिगरेट पीना सेहत के लिए हानिकारक होता है ये बात सभी जानते हैं लेकिन इसे ज्यादातर लोग पीते हैं। सिगरेट पीने वालों में यही एक सबसे बड़ी बात होती है कि धीरे-धीरे उनके रीढ़ की हड्डी कमजोर होने लगती है। निकोटीन रीढ़ को ऑक्सीजन के परिवहन होने से रोकता है। ऑक्सीनज ना मिल पाने के कारण रीढ़ की हड्डी कमजोर होने लगती हैं।

गद्दे या बिस्तर के कारण

आपकी रीढ़ की हड्डी कमजोर होने लगती है क्योंकि आपके बिस्तर का गद्दा ज्यााद पुराना हो सकता है। 5 से 7 सालों में आपके बिस्तर के गद्दों को बदल देना चाहिए। इसका नतीजा ये होता है कि सोते समय शरीर को अच्छे से आराम नहीं मिल पाता और दर्द होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here