बिना कोचिंग लिए आज IAS है एक मामूली दुकानदार की बेटी, पहले इस काम से किया था परिवार का नाम रोशन

0
177

दिल में कुछ पाने की चाह हो तो मेहनत के दम पर बड़े से बड़े पहाड़ को भी पस्त किया जा सकता है। इसकी असली मिसाल उत्तराखंड की एक बिटिया ने पेश की है, जिन्होंने बिना कोचिंग के सेल्फ स्टडी करके UPSC की परीक्षा में टॉप किया है।

इनका नाम है नमामि बंसल…नमामि बंसल ने साल 2017 में UPSC की परीक्षा में टॉप किया था। यह पहली बार नहीं है जब नमामि बंसल ने किसी परीक्षा में टॉप कर अपने परिवार का मान सम्मान बढ़ाया हो, बल्कि इससे पहले भी कई बार वह अपने पिता को गर्व का अनुभव कर आ चुके हैं I आइए जानते हैं कौन है IAS नमामि बंसल और उनके नाम है कौन-कौन सी उपाधि।

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

MA में टॉप कर हासिल किया गोल्ड मैडल

नमामि बंसल ने इससे पहले भी अपने परिवार का नाम आगे बढ़ाते हुए कई जीत के परचम लहराए है। उनके नाम गोल्ड मेडल की जीत का भी इतिहास दर्ज है। दरअसल लाला लाजपत राय मार्ग ऋषिकेश निवासी नमामि बंसल को साल 2017 में ओपन यूनिवर्सिटी की टॉपर के तौर पर राज्यपाल ने 17 अप्रैल 2017 को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया था।

उन्होंने इस दौरान बताया कि इस परीक्षा में पास करने के लिए उन्होंने किसी भी प्रकार की कोई कोचिंग नहीं ली। उन्होंने नेट के द्वारा दिए गए सभी विषयों के आधार पर पढ़ाई की और टॉप किया।

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

10वीं और 12वीं में भी कर चुकी हैं टॉप

नमामि बंसल को अचानक एक दिन फोन आया और उन्हें फोन पर पता चला कि उन्होंने आईएएस की परीक्षा पास कर ली है। उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा, ऐसे में पहले तो उन्हें फोन पर यकीन नहीं हुआ, लेकिन उसके बाद उन्होंने अपने पिता राजकुमार बंसल को इस बात की खबर दी। नमामि ने दसवीं में 92.4 और 12वीं में 94.8 अंकों के साथ परीक्षा टॉप की है। नमामि हमेशा टॉपर्स की लिस्ट में शामिल रही हैं।

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

बर्तन की दुकान चलाते हैं पिता

बता देना नमामी के पिता राजकुमार बंसल ऋषिकेश में एक बर्तन की दुकान चलाते हैं। ऐसे में बेटी के इस तरह के कारनामों से उन्हें और उनके परिवार के सभी सदस्यों में हमेशा खुशी की लहर छाई रहती है। उनका कहना है कि उन्हें अपनी बेटी नमामि बंसल पर काफी गर्व है। बता देना नमामी ने अर्थशास्त्र में लेडी श्री राम कॉलेज, दिल्ली से ग्रेजुएशन और ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी से पास मास्टर की है।

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

गृहराज्य था काम की पहली पसंद

नमामि बंसल ने बतौर आईएएस अफसर ऑफिसर कैंडर के लिए अपनी पहली पसंद अपने गृह राज्य उत्तराखंड को ही चुना था, जबकि उन्होंने अपनी दूसरी पसंद के तौर पर राजस्थान का नाम लिखा था। दोनों राज्यों को चुनने का कारण बताते हुए नमामि ने बताया कि “इन दोनों ही राज्यों में कई ऐसे विषय हैं जिन पर मैं बतौर नौकरशाह काम करना चाहती हूं।”

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

अपनी UPSC परीक्षा में टॉप करने को लेकर नमामि का कहना है कि पढ़ाई के लिए इंटरनेट से अच्छा और कोई साधन नहीं हो सकता है। बता दे तीर्थ नगरी स्थित लाला लाजपत राय मार्ग निवासी नमामि बंसल ने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल परीक्षा 2016 में देश में 17 स्थान प्राप्त कर टॉप किया था।

inspirational-story-of-ias-namami-bansal-she-top-in-uttarakhand-upsc-2017-without-coaching-classes
social media

IAS नमामी बंसल ने अपना टॉप मंत्रा छात्रों से शेयर करते हुए कहा है कि खुद पर विश्वास रखों और अपना धैर्य कभी मत खोना…हिम्मत और लगन से हर मुश्किल पार की जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here