छत्रपति शिवाजी ने रचा था गौरवशाली इतिहास, स्वतंत्र राज्य का संकल्प कर लिया था ये प्रण

0
129
indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra5

ताज नगरी आगरा का अपना ही अलग इतिहास है। ताज नगरी का मुगल म्यूजियम अब छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम से जाना जाता है। इसमें शिवाजी महाराज का इतिहास भी दर्ज किया गया है। मुगल म्यूजियम के साथ अब छत्रपति शिवाजी और उनके संकल्प की कहानी का इतिहास बेहद कम लोग जानते हैं। ऐसे में आज हम आपको मुगल म्यूजियम से जुड़े छत्रपति शिवाजी महाराज के किस्से की पूरी कहानी सुनाएंगे, जिसे जानकर आप को बड़ी हैरानी होगी।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra
social media

दरअसल उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा जारी एक आदेश के बाद यह बदलाव किया गया है। आगरा से शिवाजी महाराज का गहरा नाता था। ऐसे में साल 1667 में मुगल बादशाह औरंगजेब ने छत्रपति शिवाजी महाराज को कैदी बना लिया, तो शिवाजी को सवा महीने आगरा में नजरबंद कर दिया गया।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra5
social media

क्या कहते हैं इतिहास के पन्ने

वहीं इस मामले को वर्णित करते हुए इतिहासकार बताते हैं कि औरंगजेब के वजीर मिर्जा राजा जय सिंह और शिवाजी राजे से युद्ध के बाद साल 1665 में पुरंदर की संधि हुई थी। दोनों ने सर्वसम्मति के साथ इस संधि पर हस्ताक्षर किए थे।

इसके तहत आगरा के 23 किलो को शिवाजी महाराज के नाम कर दिया गया था। इस संधि में तय हुआ था कि शिवाजी औरंगजेब से दरबार में मिलेंगे और जिसमें उच्च पद या बड़ा मनतब दिया जा सकता है। उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी औरंगजेब के वजीर मिर्जा राजा जयसिंह ने खुद ली थी।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra5
social media

जब दरबार में हुआ शिवाजी राजे का अपमान

इसके बाद सन 1666 में शिवाजी महाराज आगरा आए और उन्होंने सेल्वा रोड पर सराय गुलाबचंद में अपना डेरा डाला। वजीर जय सिंह के बेटे कुंवर राम सिंह ने इस दौरान एक लाख रूपये की भेट के साथ उनका स्वागत किया।

इसके साथ ही नगर की सीमा से बाहर कोठी मीना बाजार के पास आज जहां जयपुर हाउस बना हुआ है, वहां कुंवर राम सिंह की छावनी में शिवाजी महाराज छहरे रहे। इतिहासकारों के मुताबिक इस स्थान को आज भी अभिलेखों में कटरा सवाई राजा जयसिंह के नाम से जाना जाता है।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra5
social media

वजीर राम सिंह के कहने पर शिवाजी महाराज आगरा तो आ गए, लेकिन औरंगजेब के दरबार में उन्हें उचित सम्मान नहीं मिला। दरअसल इस दौरान उन्हें पांच हजारी मनसबदारों के साथ खड़ा कर दिया गया। औरंगजेब की इस हरकत पर शिवाजी महाराज गुस्सा हो गए और सब छोड़ कर चले गए।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra
social media

औरंजेब और शिवाजी के बीच बोएं थे नफरत के बीज

जानकारों की माने तो अफजल खान (शिवाजी के हाथ हुआ था निधन) की विधवा और रोशन आरा जो कि शाहजहां की बेटी थी ने औरंगजेब के कान भर दिए थे,  जिसके चलते औरंगजेब और शिवाजी के बीच ठन गई थी। इसी कारण औरंगजेब ने सभा में शिवाजी का सम्मान नहीं किया।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra
social media

इतिहासकारों का कहना है कि इस वाक्ये के बाद शिवाजी महाराज फिदाई हुसैन की हवेली में नजरबंद रहे थे। उनकी जानकारी किसी को नहीं थी। आज इसी जगह को कोठी मीना बाजार के नाम से जाना जाता है।

एक हजार सैनिकों की निगरानी में थे शिवाजी

दरअसल इस दौरान औरंगजेब के हुक्म पर शिवाजी महाराज को कुंवर राम सिंह की छावनी के निकट एक शिविर में नजर बंद करके रखा गया। इस दौरान उन्हें सिद्धि फौलाद था की निगरानी में रखा गया। इस दौरान शिवाजी को हजार सैनिकों और तोपों की तैनाती में निगरानी में रखा गया।

indian-history-of-agra-mughal-museum-news-chhatrapati-shivaji-s-historic-escape-in-agra
social media

शिवाजी महाराज को कड़ी निगरानी में रखने के लिए औरंगजेब ने उन्हें जामा मस्जिद के निकट स्थित विट्ठलनाथ की हवेली में लाने का हुक्म दिया, लेकिन इस दौरान शिवाजी महाराज ने औरंगजेब के सैनिकों की आंखों में धूल झोंकने की पूरी प्लानिंग तैयार कर ली थी। इस दौरान जब उनके बेटे संभाजी की मदद से मिठाई की टोकरी में बैठकर वो वहां से निकल गए।

इसके बाद औरंगजेब की कैद से निकलकर शिवाजी महाराज मथुरा पहुंचे और वहां से चौबेजी के कटरा में रहे। वहां उन्होंने संकल्प किया कि वह एक स्वतंत्र राज्य आगरा की नींव रखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here