मोदी विरोधी हीरो कमल हासन को इस महिला ने चुनाव हरा दिया, जानिये कौन है ये?

0
487

बॉलीवुड और साउथ के सुपरस्टार एक्टर कमल हासन ने पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़ा। वह मक्कल नधि मय्यम (एमएनएम) पार्टी बनाकर चुनाव मैदान में खड़े हुए, लेकिन अपनी एक्टिंग से लाखों दिलों में राज करने वाले चुनावी मैदान में जीत हासिल नहीं कर सके।

भिनेता से राजनेता बने कमल हासन को भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार वनाथी श्रीनिवासन ने नजदीकी मुकाबले में 1500 से ज्यादा वोटों से हराया है। कमल हसन की पार्टी तमिलनाडु में एक भी सीट जीतने में नाकामयाब रही है।

कोयंबटूर दक्षिण सीट पर एमएनएम के कमल हसन, भाजपा की वनाथी श्रीनिवासन और कांग्रेस के मयूर जयकुमार के बीच मुकाबला हुआ। भाजपा की वनाथी श्रीनिवासन को 52,627, कमल हसन को 51,087 और मयूर जयकुमार को 41663 वोट मिले।

आपको बता दे, कोयंबटूर साउथ सीट काफी दिलचस्प रही और आखिर में बीजेपी ने यहां बाजी मार ली। इस बार कमल हासन की पार्टी एमएनएम की पार्टी भी चुनावी मैदान में थी।

परदे पर हिट, चुनाव में फेल हुए हसन

कमल हासन की पार्टी एमएनएम इस चुनाव में अभिनेता आर सरथ कुमार की अगुवाई वाले आल इंडिया समतुवा मखल काची (एआईएसएमके) परिवेन्धर की पार्टी इंडिया जननायक काची (आईजेके) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के साथ मिलकर चुनाव लड़ी है।

हासन की मक्क्ल नीधि मय्यम गठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी है और वो गठबंधन में 154 सीटों पर लड़ी लेकिन कोई भी सीट नहीं जीत सकी।

बता दें कि कमल हासन ने 2018 में पार्टी बनाई थी, जिसके बाद उनका ये पहला विधानसभा चुनाव है। 2019 में एमएनएम ने लोकसभा चुनाव लड़ा था। जिसमें पार्टी को 3.77 प्रतिशत वोट मिले थे। इस चुनाव में वो कोई कमाल नहीं कर सके हैं।

कमल हासन भ्रष्टाचार को मुद्दा बन कर चुनाव लड़ रहे हैं. उनका दावा है कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आयी तो तमिलनाडु की राजनीति से भ्रष्टाचार का अंत हो जाएगा।

उन्होंने वादा किया है कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो गृहणियों को घर के कामकाज के लिए भुगतान, सभी घरों को हाई स्पीड इंटरनेट सेवा और किसानों को कृषि आधारित उद्योगों के जरिये उद्यमी बनाया जाएगा। वहीं, गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को समृद्धि रेखा में लाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here