अयोध्या फैसले पर बोले सलीम खान- मुस्लमानों को मस्जिद की नहीं बल्कि स्कूल की जरूरत है…

0
160
Salman Khan father salim khan big statement on ayodhya verdict

अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court Ayodhya Verdict) ने शनिवार को अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया। पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने 40 दिनों की सुनवाई के बाद यह फैसला दिया। पीठ ने विवादित जमीन पर रामलला के हक में निर्णय सुनाया। मुस्लिमों को मस्जिद के लिए अलग जमीन दी जाएगी। इस फैसले पर सलमान खान के पिता और पटकथा लेखक सलीम खान का बयान आया है। इस बड़े और चौकाने बाले बयान की सोशल मीडिया पर जमकर चर्चा हो रही है।

अयोध्या पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सलीम खान (83) ने कहा कि भारत के मुसलमानों को मस्जिद नहीं, स्कूल की जरूरत है। सलीम खान (Salim Khan) ने शनिवार को कहा कि अयोध्या (Ayodhya Verdict) में मुस्लिमों को दी जाने वाली पांच एकड़ भूमि पर स्कूल बनाया जाना चाहिए।

सलीम खान की मुस्लिम समुदाय को नसीहत

अयोध्या विवाद (Ayodhya Case) पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करते हुए बॉलीवुड के तीन अभिनेताओं सलमान, सोहेल और अरबाज के पिता ने कहा कि पैगंबर ने इस्लाम की दो खूबियां बताई है, जिसमें प्यार और क्षमा शामिल हैं। अब जब इस कहानी (अयोध्या विवाद) का द एंड हो गया है तो मुस्लिमों को इन दो विशेषताओं पर चलकर आगे बढ़ना चाहिए। ‘मोहब्बत जाहिर करिए और माफ करिये।’ अब इस मुद्दे को फिर से मत कुरेदिये..यहां से आगे बढ़िए।

बता दे, सलीम खान ने यह अपील मुस्लिम समुदाय से की है। सलीम खान ने कहा कि अब इस मामले पर बात न कर बुनियादी समस्याओं पर चर्चा करनी चाहिए। मुस्लमानों को स्कूल और अस्पताल की जरूरत है। अयोध्या में मस्जिद के लिए मिलने वाली पांच एकड़ जगह पर कॉलेज बने तो बेहतर होगा। नमाज तो ट्रेन, प्लेन कहीं भी पढ़ी जा सकती है। अगर 22 करोड़ मुस्लिमों को अच्छी शिक्षा मिलेगी तो इस देश की बहुत सी कमियां खत्म हो जाएंगी।

पीएम मोदी के लिए कही ये बड़ी बात

सलीम खान ने पीए मोदी की भी तारिफ की कहा कि प्रधानमंत्री शांति पर जोर देते हैं, और मैं प्रधानमंत्री से सहमत हूं। आज के समय में हमें शांति की जरूरत है हमें अपने उद्देश्य पर फोकस करने के लिए शांति चाहिए। हमें ये पता होना चाहिए की शिक्षा समाज में बेहतर भविष्य है। सलीम खान ने आगे कहा कि हमारा मुख्य मुद्दा ये है कि मुस्लिम शिक्षा में पिछड़े है इसलिए हमें अयोध्या विवाद को द एंड कह कर नई शुरूआत करनी चाहिए।

सलीम खान ने याद दिलाई पैगंबर की बात

सलीम खान ने कहा कि पैगंबर ने इस्लाम की दो खूबियां बताई है। जिसमें प्यार और क्षमा शामिल हैं। अब जब अयोध्या विवाद का अंत हो गया है तो मुस्लिमों को इन दो विशेषताओं पर चलकर आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि मोहब्बत जाहिर करिए और माफ करिये, अब इस मुद्दे को फिर से मत कुरेदिये। यहां से आगे बढ़िए।

मस्जिद से ज्यादा स्कूल की जरूरत

सलीम खान ने आगे कहा कि हमें मस्जिद की जरूरत नहीं है। जहां तक रही नमाज पढ़ने की बात वो तो हम कही भी पढ़ सकते है। लेकिन इस समय हमें बेहतर स्कूल की जरूरत है। देश के 22 करोड़ मुस्लिम को शिक्षा अच्छी मिलेगी तो देश की बहुत सी कमियां दूर हो जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here