इंसानियत: इस महिला पुलिस अफसर ने कैंसर पीड़ितों की मदद के लिए मुंडवा लिया अपना सिर, दान कर दिए बाल

0
107
A Women Police Officer
Image Source- Social Media

केरल के त्रिसूर जिले की एक पुलिस अफसर अपर्णा लवकुमार ने कैंसर मरीजों को विग बनाने के लिए बाल कटवा दिए, और अपने घने-लंबे बाल दान कर दिए। इस काम के लिए लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं। अपर्णा का कहना है कि मैंने बहुत ही छोटा काम किया है। मैं इतनी तारीफ की हकदार नहीं हूं। मीडिया खबरों के अनुसार, कैंसर पीड़ित के विग बनवाने के लिए उन्होंने अपनी लंबे बाल दान किये।

महिलाओं को उनके लंबे बाल बहुत प्यारे होते हैं और उनकी सुंदरता में बालों का अहम स्थान होता है, इसके बावजूद अपर्णा ने अपना सिर मुंडवा लिया। उनका कहना है- मैंने जो किया, उसमें कोई प्रशंसा की बात नहीं है। सिर पर बाल तो दो साल में आ ही जाएंगे। मेरे लिए वे लोग वास्तव में हीरो हैं, जो जरूरतमंदों को अपना अंग दान करते हैं। सूरत में क्या रखा है, आपका काम उससे ज्यादा मायने रखता है।

कैंसर पीड़ित लड़के की पीड़ा देख लिया निर्णय

Image Source- Social Media

अपर्णा पहले भी लोगों की मदद कर चुकी हैं। 10 साल पहले उन्होंने एक जरूरतमंद परिवार की मदद की थी। दरअसल, परिवार में एक बच्चे की मौत हो गई थी। अस्पताल से बच्चे की बॉडी को ले जाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। तब अपर्णा ने अपने तीन सोने के कंगन परिवार को दे दिए थे। ताकि परिवार 60 हजार रुपए के बिल का भुगतान कर सके। इस घटना के बारे में अस्पताल के कर्मचारियों ने मीडिया को बताया था।

अपर्णा ने बताया कि पिछले दिनों उन्होंने एक कैंसर पीड़ित लड़के को देखा। वह कैंसर से तो बच गया लेकिन उसके सिर से बाल हमेशा के लिए खत्म हो गए। गंजा दिखने में वह खुद को काफी असहज महसूस करता था। उसकी मनोदशा देख अपर्णा ने अपने बाल दान करने का फैसला लिया।

Image Source- Social Media

अपर्णा कहती हैं कि वे हमेशा अपने थोड़े-थोड़े बाल दान करती रहती हैं, लेकिन इस बार उन्होंने तब अपना पूरा सिर मुंडवा लिया जब उनके सामने एक कैंसर से पीड़ित एक लड़का बिना बालों के दिखाई पड़ा। उन्होंने कहा कि मैं उस बच्चे के दर्द को महसूस कर पा रही थी। अपर्णा के साथ काम करने वाले अधिकारी उन्हें अपने रोल मॉडल के रूप में मानते हैं।

अपनी बेटियों के साथ-साथ देश के लिए प्रेरणाश्रोत

Image Source- Social Media

अपर्णा ने बताया कि बहुत ही कम उम्र में ही वह अपने पति को खो दी थीं। उन्होंने अपनी दो बेटियों का खुद पालन-पोषण किया। एक बेटी स्नातकोत्तर है और दूसरी कक्षा 10 की छात्रा है। अपर्णा ने कहा, उसका मुंडा हुआ सिर उन्हें कैंसर रोगियों की भावनाओं और उनके संघर्ष को अनुभव करने का अवसर देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here