10वीं में फेल होने पर घर से भाग कर 3 देशों में फैलाया करोड़ों का बिजनेस, कभी पेट भरने के भी नहीं थे पैसे

0
520

जिंदगी में सफल होना और सफलता पाना इतना आसान नहीं होता है, इसके लिए बहुत मेहनत, बहुत संघर्ष और बहुत सारा त्याग करना पड़ता है। कुछ ऐसे ही कहानी थी उत्तर प्रदेश के उन्नाव के रहने वाले राज सिंह पटेल की जिन्होंने दसवीं में फेल होने के बाद अपना घर छोड़ दिया और भागकर हरियाणा के रोहतक पहुंच गए। वहां पर उन्होंने नट बोल्ट की एक कंपनी में खराद का काम करने की नौकरी खोज ली।

जिसके बाद वहां पर वह कई वर्षों तक काम किया और आज की तारीख में आप शायद आप इस बात पर यकीन नहीं कर पाएंगे कि आज की तारीख में उनके तीन तीन देशों में खुद के कारोबार चल रहे हैं। राज सिंह पटेल बताते हैं कि शुरुआती वर्ष तक उन्होंने काफी ज्यादा संघर्ष किया था। कई बार तो उनके जीवन में ऐसा मौका भी आया जब उन्हें रात-रात भर भूखे सोना पड़ा था।

फैक्ट्री में सुबह 6:00 बजे से रात्रि 11:00 बजे तक लगातार काम करना, ऐसे कई मुश्किल वक्त उन्होंने बिताया है। करीब 7 साल तक फैक्ट्री में काम करने के बाद उन्होंने अपना खुद का काम करने का सोची। पहले तो उन्होंने किराए की मशीन ली फिर बाद में 75,000 रुपये कर्ज लेकर उन्होंने अपनी खुद की मशीन लगाई और अपना खुद का काम शुरू किया।

पत्नी का भी भरपूर सहयोग मिला

इन्हीं सब के दौरान इनकी शादी भी हो गई हालांकि, इन्हें बेहद समझदार पत्नी मिली जो उनके काम में उनका काफी ज्यादा सहयोग करती थी। पार्ट्स गिनना, पैकिंग करना तथा दूसरे छोटे बड़े कामों में उनकी पत्नी ने लगातार उनका हाथ बटाया। साल 1999 में उन्होंने खुद की मशीन लगाने की योजना बनाई और सस्ती मशीन के लिए वह ताइवान गए।

साल 2003 में उन्होंने अपनी मशीन लगाकर काम शुरू भी कर दिया। थोड़ी तरक्की हुई और तब उन्होंने अपने बिजनेस को और बढ़ाने के लिए वर्ष 2007 में अमेरिका गए और वहां से मशीनें लाए और फिर साल 2010 और 2011 के बीच फिर से ताइवान से मशीनें मंगा कर काम को तेजी से आगे बढ़ाया।

आज की तारीख में उनका दावा है कि वह अमेरिका, ताइवान, जापान, जर्मनी और चीन जैसे उन्नत देशों से भी सस्ते नट-बोल्ट तैयार कर सकते हैं मगर उन्हें सरकार की मदद मिल जाए तब। खैर जो भी हो मगर इनकी तरक्की और सफलता की एक कहानी बेशक बहुत सारे युवाओं को प्रेरित कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here